मेरे साथी ....जिन्होंने मेरी रचनाओं को प्रोत्साहित किया ...धन्यवाद

शुभ-भ्रमण

नमस्कार! आपका स्वागत है यहाँ इस ब्लॉग पर..... आपके आने से मेरा ब्लॉग धन्य हो गया| आप ने रचनाएँ पढ़ी तो रचनाएँ भी धन्य हो गयी| आप इन रचनाओं पर जो भी मत देंगे वो आपका अपना है, मै स्वागत करती हूँ आपके विचारों का बिना किसी छेड़-खानी के!

शुभ-भ्रमण

18 मार्च 2013

"और कहूँ क्या "



मेरे दिल की

गहराइयों में तुम

आये सौंधी हवा बन के

महका गये सुगंध

आंगन भर हाय राम

रोम रोम

रोमांचित करते

सुध बुध भूली

सब जग भूली  

याद रहे बस तुम 

लेकिन चतुर साथी

जाते जाते छोड़ गये तूफान

घना और भीषण हाय

सब अस्त-व्यस्त 

और कहूँ क्या

शेष नहीं कुछ भी 

शेष नही कुछ भी ...............गीतिका 'वेदिका'

                                          १८ -०३ -२ ० १३    ०३ :२२  अपरान्ह 

3 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. प्रोत्साहन के लिए आभार भारतीय नागरिक जी!

      हटाएं
  2. दिल की बेचैनी का सुंदर वर्णन , शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं

विचार है डोरी जैसे और ब्लॉग है रथ
टीप करिये कुछ इस तरह कि खुले सत-पथ